Krishna Chalisa PDF Download

Krishna Chalisa PDF Download |श्री कृष्णा चालीसा PDF: Here provided the download link of the Krishna Chalisa lyrics in Hindi pdf|shri Krishna Chalisa in Hindi pdf. You can easily Shri Krishna Chalisa pdf download here.

Krishna Chalisa PDF Download | श्री कृष्णा चालीसा PDF download

भगवान श्री कृष्णा चालीसा का पाठ करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है.

जो भी वयक्ति भगवान श्री कृष्ण चालीसा का पाठ नियमिता से करता है उसका स्वभाव उसका चरित्र निर्मल हो जाता है कृष्णा चालीसा का पाठ करने से भगवान कृष्णा भक्त के चित्त में विराजमान होते है.

कृष्ण को आज दुनिया भर में लाखो करोडो हिंदुओं द्वारा उनके सबसे लोकप्रिय देवताओं में से एक के रूप में पूजा जाता है। उन्हें श्याम , गोपाल , कान्हा, घनश्याम भी कहा जाता है।

और कलयुग के सभी पापो से उस इंसान को मुक्ति मिलती है यदि प्रति दिन कृष्ण चालीसा का पाठ किया जाए तो व्यक्ति की वाणी में मधुरता आती है और वो हरप्रकार के सुखो को भोगता है.

श्री कृष्ण चालीसा का पाठ करने का कोई खास दिन नहीं है आप इसे कोई भी दिन कोई भी समय इसका पाठ कर शकते है.

और कृष्णा चालीसा का पाठ करने से पहले कुछ नियमो का खास ध्यान रखे जैसे की पाठ शरू करने से पहले स्नान अवश्य कर ले और कृष्ण भगवान की मूर्ति हो आ फिर छवि को एक लाल कपडे के ऊपर रखे और उनके पास धुप बति , घी या फिर तेल का दिया अवश्य करे और निवेद चढ़ाये फिर कृष्णा चालीसा का पाठ करे.

Krishna Chalisa lyrics in Hindi pdf|shri Krishna Chalisa in Hindi pdf

॥ दोहा ॥

बंशी शोभित कर मधुर,नील जलद तन श्याम।

अरुण अधर जनु बिम्बा फल,पिताम्बर शुभ साज॥

जय मनमोहन मदन छवि,कृष्णचन्द्र महाराज।

करहु कृपा हे रवि तनय,राखहु जन की लाज॥॥ चौपाई ॥

जय यदुनन्दन जय जगवन्दन।जय वसुदेव देवकी नन्दन॥

जय यशुदा सुत नन्द दुलारे।जय प्रभु भक्तन के दृग तारे॥

जय नट-नागर नाग नथैया।कृष्ण कन्हैया धेनु चरैया॥

पुनि नख पर प्रभु गिरिवर धारो।आओ दीनन कष्ट निवारो॥

वंशी मधुर अधर धरी तेरी।होवे पूर्ण मनोरथ मेरो॥

आओ हरि पुनि माखन चाखो।आज लाज भारत की राखो॥

गोल कपोल, चिबुक अरुणारे।मृदु मुस्कान मोहिनी डारे॥

रंजित राजिव नयन विशाला।मोर मुकुट वैजयंती माला॥

कुण्डल श्रवण पीतपट आछे।कटि किंकणी काछन काछे॥

नील जलज सुन्दर तनु सोहे।छवि लखि, सुर नर मुनिमन मोहे॥

मस्तक तिलक, अलक घुंघराले।आओ कृष्ण बांसुरी वाले॥

करि पय पान, पुतनहि तारयो।अका बका कागासुर मारयो॥

मधुवन जलत अग्नि जब ज्वाला।भै शीतल, लखितहिं नन्दलाला॥

सुरपति जब ब्रज चढ़यो रिसाई।मसूर धार वारि वर्षाई॥

लगत-लगत ब्रज चहन बहायो।गोवर्धन नखधारि बचायो॥

लखि यसुदा मन भ्रम अधिकाई।मुख महं चौदह भुवन दिखाई॥

दुष्ट कंस अति उधम मचायो।कोटि कमल जब फूल मंगायो॥

नाथि कालियहिं तब तुम लीन्हें।चरणचिन्ह दै निर्भय किन्हें॥

करि गोपिन संग रास विलासा।सबकी पूरण करी अभिलाषा॥

केतिक महा असुर संहारयो।कंसहि केस पकड़ि दै मारयो॥

मात-पिता की बन्दि छुड़ाई।उग्रसेन कहं राज दिलाई॥

महि से मृतक छहों सुत लायो।मातु देवकी शोक मिटायो॥

भौमासुर मुर दैत्य संहारी।लाये षट दश सहसकुमारी॥

दै भिन्हीं तृण चीर सहारा।जरासिंधु राक्षस कहं मारा॥

असुर बकासुर आदिक मारयो।भक्तन के तब कष्ट निवारियो॥

दीन सुदामा के दुःख टारयो।तंदुल तीन मूंठ मुख डारयो॥

प्रेम के साग विदुर घर मांगे।दुर्योधन के मेवा त्यागे॥

लखि प्रेम की महिमा भारी।ऐसे श्याम दीन हितकारी॥

भारत के पारथ रथ हांके।लिए चक्र कर नहिं बल ताके॥

निज गीता के ज्ञान सुनाये।भक्तन ह्रदय सुधा वर्षाये॥

मीरा थी ऐसी मतवाली।विष पी गई बजाकर ताली॥

राना भेजा सांप पिटारी।शालिग्राम बने बनवारी॥

निज माया तुम विधिहिं दिखायो।उर ते संशय सकल मिटायो॥

तब शत निन्दा करी तत्काला।जीवन मुक्त भयो शिशुपाला॥

जबहिं द्रौपदी टेर लगाई।दीनानाथ लाज अब जाई॥

तुरतहिं वसन बने ननन्दलाला।बढ़े चीर भै अरि मुँह काला॥

अस नाथ के नाथ कन्हैया।डूबत भंवर बचावत नैया॥

सुन्दरदास आस उर धारी।दयादृष्टि कीजै बनवारी॥

नाथ सकल मम कुमति निवारो।क्षमहु बेगि अपराध हमारो॥

खोलो पट अब दर्शन दीजै।बोलो कृष्ण कन्हैया की जै॥

॥ दोहा ॥

यह चालीसा कृष्ण का,पाठ करै उर धारि।

अष्ट सिद्धि नवनिधि फल,लहै पदारथ चारि॥

Krishna Chalisa PDF Download| श्री कृष्णा चालीसा PDF

Leave a Comment